Maharajganj

निकलो न बेनकाब जमाना खराब है..और कसम तोड़ दे तो मै क्या करु..सुरों पर 'महराजगंज महोत्सव' में पद्मश्री पंकज उधास के तान पर बरसी तालियां


महराजगंज टाइम्स ब्यूरो:- जनपद स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित महराजगंज महोत्सव के अंतिम दिन प्रसिद्ध गजल गायक पद्मश्री पंकज उधास ने सुरो से ऐसा शमां बाधा कि दर्शक मुग्ध हो गये।कार्यक्रम स्थल पर पहुचे गजल गायक पंकज उधास ने सांस्कृतिक कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया।तत्पश्चात केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री पंकज चौधरी ने पंकज उधास को अऔग वस्त्र व स्मृति चिंह भेट कर सम्मानित किया।गजल गायक पंकज उधास ने भजन गजल और फिल्मी सुरमयी गीतो से रात को संगीतमय बना दिया।सबको मालूम है मै शराबी नही फिर कोई पिलाए तो मै क्या करु पर दर्शक झूम उठे।पंकज उधास के गजलो पर श्रोता हाथ उठाकर अपना प्यार जता रहे थे और मशहूर गजलो की फरमाइस की गुहार लगाते रहे।पंकज उधास ने अपने प्रसिद्ध गजल चांदी जैसा रंग है तेरा,चिट्ठी आई है चुपके चुपके थोड़ी थोड़ी पिया करो पर दर्शको के दिलो मे उतर गये।पंकज उधास ने चिट्ठी आए संदेश आदमी खिलौना है जाये तो जाये कहा,आज फिर तुमपे प्यार आया है,न कजरे की धार आदि फिल्मी गानो पर खुब मंनोरजन कराया।पंकज उधास की गजलो के नशे मे दर्शक ऐसे बहके की अपनी कुर्सी से ही चिपके रह गये।

यह भी पढ़ें : गाड़ी की तुलना में हथियार चलाने की शौकीन हैं महराजगंज की महिलाएं

Comments (0)

Leave a Comment

Related News